आपको बता दे, केंद्र सरकार की तरफ से हाल ही में एक बड़ी खबर आ रही है इसके मुताबिक सार्वजनिक उद्यमों में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ता में बढ़ोतरी का फैसला किया गया है। जो 1 जुलाई 2023 से प्रभावी हुआ है। यह खबर उन लोगो के लिए बेहद काम की जो सरकारी उद्यमों में काम करते है। महंगाई से निपटने के लिए सरकार की तरफ से कर्मचारियों को DA दिया जाता है जो कि सरकार की तरफ से दिया गया एक बड़ा तोहफा होता है।

आपको बता दे, जिन कर्मचारियों का मूल वेतन 6,500 रुपये से 9,500 तक उनके लिए महंगाई भत्ते में 421.1% दर्ज किया गया है जिससे उनका न्यूनतम वेतन 34,216 रुपये होगा इसके साथ ही 9,500 रुपये से अधिक मूल वेतन वाले कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ता351% या न्यूनतम 40,005 रुपये होगा। वहीं केंद्र सरकार की तरफ से कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में डीए की वर्तमान दर उनके मूल वेतन से गुना करके की जाती है।

सामान्य वेतन के आधार दिया जाता है DA

केंद्र सरकार के एक नोटिस में कहा गया था की कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते में यह वृद्धि 1992 के RDA पैटर्न के आधार पर की जाती है इसकी नई दरें एक जुलाई 2023 से लागु होनी है जिन कर्मचारियों का मूल वेतन 3500 रूपये है उनके लिए महंगाई भत्ता 01.9% या 15,428 रुपये तक है वहीं जिन कर्मचारियों का मासिक वेतन 3,501 रुपये से 6,500 रुपये तक उनके लिए महंगाई भत्ता 526.4% तक है जो न्यूतम 24,567 रुपये तक होगा।

साल में दो बार बढ़ाया जाता है कर्मचारियों का DA

आपको बता दे, सातवें वेतन आयोग की सिफारिश के आधार पर सरकार कर्मचारियों का महंगाई भत्ता एक साल में दो बार मिलता है जिस की नियत तिथि जनवरी और मार्च में होती है। केंद्रीय कर्मचारियों का अगला महंगाई भत्ता एक जुलाई से लागु होना था लेकिन सरकार की तरफ से सितम्बर में यह घोषणा की जाती है इस बार महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी की गयी है अगर ऐसा होता है महंगाई भत्ता 42 % से बढ़कर 46 % तक हो जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *