दरभंगा माड्यूल में सालों से आतंकी और देश विरोधी गतिविधियों की चर्चा हो रही है। वर्तमान में NIA द्वारा PFI के खिलाफ लगातार कार्रवाई जारी है। इसी बीच एक ऐसा मामला सामने आया, जिससे सुनने के बाद सभी हैरान हैं। दरअसल, दरभंगा के रहने वाले भक्त बंशी झा ने पाकिस्तान की लड़की के प्रेमजाल में फंसकर देश के कई सैन्य ठिकानों की तस्वीरें और वीडियो दुश्मन देश को भेज दिए। Honey Trap का शिकार युवक को कोलकाता से गिरफ्तार किया गया।

युवक अपनी इस हरकत के चलते सलाखों के पीछे जा पंहुचा है। हर जगह इस बात की ही चर्चा चल रही है। भक्त बंशी झा ने फेसबुक पर अपने नाम से कुल 16 आइडी बना रखी हैं, जिनकी फ्रेंड लिस्ट में केवल महिलाएं हैं। हालांकि, इस शातिर दिमाग युवक ने किसी भी आइडी में अपने नाम के अलावा अन्य कोई जानकारी नहीं दी है। हालांकि, उसने दो आइडी में अपनी तस्वीर अपलोड की हुई है, जिसमें से एक दिल्ली और दूसरी किलकता की है। गिरफ्तारी के बाद कोलकाता एसटीएफ द्वारा साझा तस्वीर एक सामान पाई गयी।

आरुषि नाम की महिला के Honey Trap में फंसा युवक

ऐसे में भक्त बंशी झा की परेशानियां बढ़ चुकी हैं और कोलकाता एसटीएफ द्वारा उसकी सभी आइडी को खंगाला जा रहा है। आपको बता दें कि भक्त बंशी झा की दिल्ली की कुरियर कंपनी में नौकरी है। युवक ने फेसबुक पर आरुषि नाम की महिला से दोस्ती की और फिर दोनों में बातचीत शुरू हुई जिसके बाद मामला प्यार तक जा पंहुचा।

युवक को पता ही नहीं चला कि महिला ISI की एजेंट है और वह उसके Honey Trap में फंस चुका है। स्वयं को अमृतसर निवासी बताकर आरुषि नमक महिला ने भक्त बंशी झा को अपने चंगुल में फंसाकर उसका इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। महिला ने कहा कि उसकी बहन रक्षा विभाग में रिपोर्टिंग करती है और उसे कुछ सैन्य ठिकानों की तस्वीर और वीडियो की आवश्यकता है।

Honey Trap का शिकार भक्त बंशी इस काम के लिए तैयार हो गया, जिसके बाद उसने दिल्ली के कई सैन्य ठिकानों की तस्वीर और वीडियो बनाकर भेजे। इसी बीच उसने आरुषि का पिता बताने वाले एक शख्स को अपनी आइडी पर मोबाइल और सिम भी दिलाया। सैन्य इंटेलिजेंस को इसकी भनक लगी, लेकिन कार्रवाई से पहले युवक का कोलकाता ट्रांसफर हो गया।

इसके बाद मामले की पूरी जानकारी कोलकाता एसटीएफ के पास पंहुची और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। उसके मोबाइल से कई साड़ी तस्वीरें और वीडियो मिले हैं, जिसे वह पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी को भेज चुका था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *